भानसहिवरा

भानसहिवरा यह गाँव महाराष्ट्र राज्य के  अहमदनगर जिल्हा में नेवासा तहसील के अंतर्गत आता है | यहाँ की कुल आबादी लगभग १०००० के करीब है | यह एक पुराना ग्राम है | इसे अलग अलग नमो से भी जाना जाता है | इस ग्राम को "गडी हिवरा", "खान का हिवरा"," भानस हिवरा" इत्यादि नामों से जाना जाता था | वर्तमान में इसे भानसहिवरा के नाम से जाना जाता है |
             यह ग्राम काफी पुराना है | इसके अलग अलग कारन है | सबसे पहला कारन यहाँ स्तित दिगम्बर जिनालय और उसके  भीतर स्तापित अति प्राचीन जिनबिम्ब | तथा उसके ऊपर दिए नाम कैसे और क्यों  थी या है| इसका विश्लेषण..........                 
[१] गडी  हिवरा- इस नाम से बुलाने का कारन ऐसा है की यहाँ पर एक मोगल कालीन छोटा सा क़िल्ला है | जो अंदाजन ५०० साल पुराना माना जाता  है | इस किले को मराठी में  गड भी कहते है इस पर इसे गडी हिवरा कहा जाता है | इस पर मुस्लिम समाज के अवलिया कवी जंग बाबा की कबर है | इन्ही के नाम से यहाँ पर हर साल यात्रा होती है |
[२] खान का हिवरा -- यहाँ पर काले पाषाण की बहोत खदाने है | इस गाँव में  काले पाषाण से  मुर्तिया और नित्य उपयोग में आने वाले उपकरण  निर्मिती का केंद्र है | काले पाषाण की खदाने होने के कारन इसे खान हिवरा के नाम से भी जाना जाता है |
[३]भानस हिवरा--  काफी सदियों पहले यहाँ "भानस" नामक राजा राज्य कटा था |और उसकी राजधानी हिवरा ही थी इसके कारन इसे भानसहिवरा कहा जाने लगा और आज भी ये इस नाम से ही प्रचलित है |